क्रिकेट

महिंद्रा सिंह धोनी का ये बैट है दुनिया का सबसे महंगा बैट, कीमत है 83 लाख रुपए

Advertisement

क्रिकेट में एक अच्छे बल्लेबाज को अपने बल्लेबाजी का कमाल दिखाने के लिए स्वयं की प्रतिभा को तो विकसित करना ही पड़ता है इसके साथ ही उसके पास एक अच्छी बैठ होना भी बहुत आवश्यक होता है। यदि बल्लेबाज को उसकी मनपसंद का बल्ला मिल जाए तो वह क्रिकेट के मैदान पर धूम मचा देगा। यही कारण है कि बड़े बड़े क्रिकेटर बहुत सोच समझकर और बहुत ही बारीकियां देखकर अपनी बैट का चुनाव करते हैं।

वैसे तो दुनिया में बेड बनाने वाली बहुत बड़ी बड़ी कंपनियां है। और वे सारी कंपनियां बहुत ही उत्तम दर्जे की बैट बनाती है जिनकी कीमत भी बहुत हाई फाई होती है। ऐसा कहा जाता है कि बैट बनाने के लिए जो लकड़ी सर्वोत्तम पाई जाती है उस लकड़ी को इंग्लिश विलो नाम के पेड़ से पाया जाता है। कहा जाता है कि इस पेड़ की लकड़ी से बनी हुई बेड की सबसे ज्यादा डिमांड होती है। सामान्यतः इस पेड़ की लकड़ी से बनी हुई बैट की कीमत ₹4000 से लेकर ₹8000 तक है। इस पेड़ की लकड़ी से बनी हुई अब तक की सबसे महंगी बैट ₹98000 की बिक चुकी है। इस बैट को ग्रे निकोल्स लीजेंड ने खरीदा था।

Advertisement

परंतु आपको जानकर हैरानी होगी कि विश्व का सबसे महंगा बल्ला जिस बल्लेबाज का है वह कोई और नहीं बल्कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी है। जी हां दोस्तों महेंद्र सिंह धोनी के पास विश्व का सबसे महंगा बल्ला है जिसकी कीमत 83 लाख रुपए बताई जाती है। दरअसल महिंद्रा सिंह धोनी ने यह बैट 83 लाख में खरीदा नहीं था अपितु इस बैटी को नीलाम करने के बाद इसकी कीमत 83 लाख आई।

Advertisement

महिंद्रा सिंह धोनी की इस बैट को एक भारतीय कंपनी ने खरीदा था जिस कंपनी का नाम है आरके ग्लोबल शेयर्स एंड सिक्योरिटीज लिमिटेड। दरअसल महिंद्रा सिंह धोनी का यह बल्ला इतना महंगा इसलिए नीलाम हुआ क्योंकि इस बल्ले के साथ एक बहुत ही विशेष कहानी जुड़ी हुई है। साल 2011 में हुए वर्ल्ड कप में महिंद्रा सिंह धोनी ने इसी बल्ले से आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर भारतीय टीम को वर्ल्ड कप जिताया था। यह बल्ला 2011 के वर्ल्ड कप के कुछ महीने बाद ही ‘ईस्ट मीट वेस्ट’ नाम की नीलामी में एक पाउंड का नीलाम हुआ था। सबसे महंगी बैट होने के चलते इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी सम्मिलित किया गया है।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.