Categories: मनोरंजन

ऋषि कपूर की आखिरी फिल्म रह गयी थी अधूरी, अब बचा हुआ रोल निभायेंगे परेश रावल

ऋषि कपूर साहब अब इस दुनिया में नही रहे है. कुछ महीने पहले उनका निधन हो गया था और उनके जाने के बाद से ही बहुत सारे ऐसे लोग है जो काफी ज्यादा दुखी है. ख़ास तौर पर अगर हम लोग उनके फैन्स की बात करते है तो वो तो बहुत ही अधिक भावुक ही है और लोगो के दिलो में उनके लिए काफी जगह है. अभी वो तो जा चुके है लेकिन उनकी एक फिल्म है जो अधूरी रह गयी थी, अब उसे पूरा किया जाना भी तो एक जिम्मेदारी ही है और वो पूरी होगी.

शर्मा जी नमकीन में ऋषि कपूर का बचा हुआ रोल पूरा करेंगे परेश रावल
इस साल 4 सितम्बर को ऋषि कपूर की जन्मतिथि के मौके पर उनकी ही एक फिल्म शर्मा जी नमकीन रिलीज होनी है जो कॉमेडी टाइप की फिल्म होने जा रही है. इस फिल्म की शूटिंग ऋषि कपूर अपने जीवन के अंतिम दिनों में कर रहे थे और इससे पहले की वो उस किरदार को निभाकर के पूरा कर पाते उससे पहले ही वो चल बसे और उनके जाने के बाद में वो फिल्म अधूरी ही रह गयी है. अब काफी समय तक तो ऐसे व्यक्ति की खोज की जाती रही जो उनके इस रोल को पूरा कर सके.

Advertisement

इसके बाद में फिल्म की टीम की पहले पसंद बने परेश रावल जिनको इस बात के लिए मनाया गया और सही मायनों में वो कही न कही इसके लिए जम भी रहे ही थे इसी कारण से ही उनको मनाया गया. अब इस फिल्म की शूटिंग कुछ ही दिनों में शुरू कर दी जायेगी और इसमें वीएफएक्स टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाएगा ताकि फिल्म जो पहले बनी और अब बन रही है उसमे ज्यादा फर्क नजर न आ जाए, वरना फिल्म का आनंद कही न कही फीका सा पड़ने लग जाता है.

Advertisement

काफी समय तक कैंसर का इलाज करवाते रहे ऋषि कपूर
ऋषि कपूर साहब ने इस फिल्म की शूटिंग तब भी जारी रखी थी जब वो कैंसर से जूझ रहे थे और उनको अमेरिका आना जाना भी पड़ता था क्योंकि उनका काफी इलाज वही पर ही चला. जब भी वो बेहतर महसूस करते थे तो इस फिल्म पर काम करने के लिए आ जाते थे, बस इसी कारण से इस फिल्म की कीमत और भी ज्यादा बढ़ जाती है और अब इसे पूरा करने के ऊपर काम किया जा रहा है.

फिल्म का निर्देशन हितेश भाटिया के द्वारा किया जा रहा है और इसमें जूही चावला, सतीश कौशिक जैसे कई बड़े सेलेब्रिटी लोग भी मौजूद है जो इस फिल्म को लेकर के दर्शको की इच्छा को और भी ज्यादा मजबूत कर देते है.

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Yuvraj Solanki

This website uses cookies.