मनोरंजन

अभिनेता पुनीत राजकुमार का हुआ निधन, चलाते थे 45 फ्री स्कूल और 26 अनाथालय

Advertisement

दक्षिण भारत की कन्नड़ फिल्मों के मशहूर अभिनेता पुनीत राजकुमार का बीते शुक्रवार के दिन हार्ट अटैक आने से निधन हो गया। उनके निधन से न केवल साउथ इंडस्ट्री में बल्कि पूरे बॉलीवुड में भी काफी शोक की लहर फैली। पुनीत राजकुमार की निधन की खबर सुनने के बाद उन सभी चाहने वालों को अचानक से धक्का लगा। देश के राजनेताओं समेत फिल्मी दुनिया के सभी कलाकारों ने पुनीत राजकुमार के निधन पर दुख व्यक्त किया।

Advertisement

बीते शुक्रवार के दिन सुबह अचानक पुनीत राजकुमार के सीने में दर्द होने लगा। जिसके बाद उन्हें तुरंत बेंगलुरु के विक्रम अस्पताल में भर्ती कराया गया। बेंगलुरु के विक्रम अस्पताल में पुनीत राजकुमार को आईसीयू में रखा गया था। डॉक्टर ने पुनीत राजकुमार को बचाने की पूरी कोशिश की परंतु दुर्भाग्य से उनकी मौत हो गई। पुनीत राजकुमार को अस्पताल में भर्ती कराए जाने की खबर सुनते ही उनके सारे समर्थक बेंगलुरु के विक्रम अस्पताल के बाहर इकट्ठा हो गए थे और उनके जल्दी स्वस्थ होने की कामना कर रहे थे।

पुनीत राजकुमार के जाने के बाद हर कोई उनके द्वारा किए गए समाज सेवा के क्षेत्र में कार्यों को याद कर रहा है। बता दें कि अभिनेता पुनीत राजकुमार केवल फिल्में करके पैसा कमाने तक ही सीमित नहीं रहते थे बल्कि वे अपनी कमाई का एक बहुत बड़ा हिस्सा लोगों की सेवा के लिए खर्च करते रहते थे। उनके द्वारा समाज जीवन में काफी सराहनीय उपक्रम चलाए गए। इन्हीं सारे उपक्रमों को याद करके लोग पुनीत राजकुमार को श्रद्धांजलि दे रहे हैं।

Advertisement

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुनीत राजकुमार के द्वारा 45 फ्री स्कूल, 26 अनाथालय, 16 वृद्धाश्रम, 19 गौशालाएँ और 1800 अनाथ बेटियों की उच्च शिक्षा जैसे परोपकारी कार्य किए जाते थे। इन कामों के लिए पुनीत राजकुमार को हर कोई सम्मानजनक नजर से देखता था। निधन के समय उनकी उम्र केवल 46 वर्ष थी। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख जताते हुए कहा कि इतनी कम उम्र में यू चले जाना अच्छा नहीं हुआ। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके सेवा कार्यों को भी याद करते हुए पुनीत राजकुमार को श्रद्धांजलि व्यक्त की।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.