Connect with us

Hi, what are you looking for?

न्यूज़

वाराणसी के नजदीक मिला 4 हजार साल पुराना शिवलिंग

भारतीय सभ्यता से जुड़े हुए कई कई ऐसे प्रमाण और चीजे है जो समय के साथ में हम लोगो को मिल रही है और ये इस बात को दर्शा रही है कि आज से हजारो साल पहले भी इस भूमि पर वो संस्कृति मौजूद थी जिसका बहुत ही अधिक आधुनिक रूप हम आज देख रहे है. आखिर जमीन में दब चुके सबूत जब बाहर आते है तो फिर उनको नकार भी कौन सकता है? अभी हाल ही में ऐसा ही कुछ एक और फिर से देखने में आया जो पूरे देश का और आस पास के लोगो का भी ध्यान आकर्षित कर रहा है.

भाभानियाव गाँव में मिला है 4 हजार साल पुराना शिवलिंग, रिसर्च टीम को और भी काफी कुछ मिलने की आशंका
बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी की रिसर्च टीम ने वाराणसी से ही लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक गाँव भाभानियाव में खोजबीन की और जमीन के नीचे खुदाई पर उन्हें एक पूरे गाँव की छाप  देखने को मिली जो पूरे 3500 वर्ष पुराना माना जा रहा है और इसमें एक शिवलिंग मिला है जिसकी कार्बन डेटिंग करने पर मालूम चला है कि ये भी पूरे 4 हजार वर्ष पुराना है और उस समय में लोग इसी की पूजा आदि करते थे, जो सबूत मिलते है वो तो यही ही बताते है.

Advertisement

विश्व की सबसे पुराने शहरो में से एक है वाराणसी, कई टूटे फूटे पुराने अवशेष अभी मौजूद
वाराणसी विश्व के सबसे पुराने बसे हुए शहरो में से एक माना जाता है जो काफी अधिक आध्यात्मिक भी रहा है. यहाँ पर अभी भी पुरातत्व विभाग की कई टीमे मंदिरों और घरो को भी खोज रही है, इनमे इतिहास के पन्नो को तलाशने की खोज की जा रही है ताकि आज से हजारो वर्ष पहले इस धरती पर सभ्यता किस दिशा में बहती थी इस बारे में साक्ष्य प्राप्त किये जा सके.

Advertisement

सिर्फ भारत की धरती पर ही नही विदेशी जमीनों पर भी मिलते रहे है शिवलिंग आदि के प्रमाण
वाराणसी में इस तरह की चीजे होना काफी आम है क्योंकि ये शहर ही सनातन सभ्यता से जुड़ा हुआ है लेकिन आपको जानकर के आश्चर्य होगा कि वियतनाम से लेकर कम्बोडिया तक कई दूर दराज के देश जहाँ पर वर्तमान में न के बराबर सनातन सभ्यता का अंश नजर आता है वहां भी जमीन की गहराई में से 2 हजार वर्ष पुरानी मूर्तियाँ और शिवलिंग आदि मिलते रहे है जो कई पुस्तको में लिखे हुए दावो को मजबूत करते है.

ये प्रमाण फिर भी अभी उतने अधिक स्पष्ट और सभ्यता को एक सही मायने में निरूपित करने के लिए पर्याप्त नही है लेकिन भारत का पुरातत्व विभाग हो या फिर बीएचयू की रिसर्च टीम हो हर कोई अपने अपने तरीके से इसमें खुदको लगा चुका है और जल्द इसके कुछ और अधिक बेहतर परिणाम मिलेंगे इसकी आशा कर सकते है.

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

स्वास्थ्य

पानी हमारे शरीर का एक बहुत ही ख़ास और महत्त्वपूर्ण अंग है जिसको हम खूब ज्यादा पीते है और इसका इस्तेमाल हमारे जीवन में...

धर्म

भगवद गीता का हिन्दू धर्म में बहुत ही अधिक महत्त्व माना गया है और लोग इसे अधिक पूजनीय भी मानते रहे है इस बात...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...