Categories: न्यूज़

घोड़े पर बैठकर दुल्हन निकली बारात, समाज में बेटी के महत्व का संदेश देना चाहती थी दुल्हन

Advertisement

हमारे देश में किसी समय बेटियों को दोयम दर्जे का स्थान दिया जाता था। लेकिन जैसे-जैसे समाज पढ़ लिख रहा है तो वैसे वैसे बेटियों का मान सम्मान भी बढ़ता जा रहा है। बेटी को बेटे के स्तर का मान सम्मान देने की खबर बिहार के गया जिले से सामने आई है। बिहार के गया जिले में एक बेटी जिसकी शादी हो रही थी दुल्हन के रूप में उसे घोड़े पर बैठा कर उसकी बारात निकाली गई ताकि समाज में यह संदेश दिया जा सके कि बेटी भी बेटों के बराबर ही होती है।

Advertisement

बिहार के गया में रहने वाली सुष्मिता बोस की बेटी अनुष्का बोस की शादी कोलकाता के रहने वाले गीत मुखर्जी के साथ हो रही थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अनुष्का बॉस इंडिगो में सीनियर केबिन क्रु के पद पर तैनात है। अनुष्का की मां सुष्मिता बोस एक स्कूल में टीचर की नौकरी करती है और अनुष्का के पिता अपना मेडिकल स्टोर चलाते हैं। कुल मिलाकर पूरा परिवार ही पढ़ा लिखा है।

अनुष्का की मां ने कहीं यह बात

Advertisement

बेटी के द्वारा किए गए इस सराहनीय कार्य के ऊपर कहते हुए अनुष्का की मां सुष्मिता ने बताया कि हमें बेटे और बेटियों में बिल्कुल अंतर नहीं करना चाहिए। बेटियां भी बेटों से बढ़कर सफलता प्राप्त करके अपने माता-पिता का नाम रोशन कर सकती है। अनुष्का ने पहले से ही यह ठान रखा था कि वह अपने शादी में कुछ इस प्रकार का संदेश समाज में देना चाहती है जिसके लिए हमने पूरे परिवार सहित उसे ऐसा करने के लिए रजामंदी दी थी।

Advertisement

दुल्हन अनुष्का ने दिया संदेश

वही अनुष्का ने भी अपने द्वारा किए गए इस सराहनीय कार्य के लिए बताया कि ऐसा करके वह पूरे समाज में यह संदेश फैलाने चाहती थी कि जब बेटे अपनी शादी में खुद की मर्जी से कुछ करने का प्लानिंग कर सकते हैं तो बेटियां क्यों नहीं? ऐसा करके वह समाज को दिखाना चाहती थी कि बेटियां माता पिता के कंधों पर बोझ नहीं होती बल्कि बेटों से भी ज्यादा अधिक बढ़कर होती है। अनुष्का के द्वारा लिए गए इस निर्णय पर उनके पति जीत मुखर्जी ने भी सहमति जताई और अनुष्का के इस कदम का स्वागत किया।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.