Connect with us

Hi, what are you looking for?

न्यूज़

ग्राहक ने मंगवाए थे एक दर्जन मास्क और कम्पनी ने भेजे 12, तो ग्राहक ने कर दी ऐसी डिमांड

आपने वो लाइन तो  सुनी ही होगी कस्टमर इज किंग. वो चाहे जो कर सकता है और इसके बारे में कई किताबे लिखी जा चुकी है कई नियम कायदे आ चुके है पर जब ग्राहक नाराज होता है तो फिर वो कुछ भी कर देता है और ये बात तो हम लोग भी अच्छे से जानते ही है. अगर हम लोग बात करते है अभी की तो लोग इसको लेकर के काफी अधिक सोचने में लग जाते है और हाल ही में जो मामला देखने में आया है वो कुछ इसी टाइप का है.

एक व्यक्ति है जिसका नाम मेक करी है और उसने ऑनलाइन एक कम्पनी से ऑनलाइन ही एक दर्जन मास्क भेजने के लिए कहा. एक दर्जन का हिसाब होता है 12 और इस हिसाब से कम्पनी ने उसको मास्क भेज भी दिए. जैसे ही उसने मास्क खोलकर के देखे तो वो देखकर के गुस्सा हो गया. उसने कम्पनी से शिकायत करनी शुरू कर दी कि आखिर उन्होंने उसे इतने कम मास्क क्यों भेजे? उसे तो सारे के सारे चाहिए थे.

Advertisement

इस पर कम्पनी ने उसे जवाब देते हुए कहा कि उसने जो मांगे थे वो सारे के सारे तो उसे दे दिए गये है. एक दर्जन में तो 12 ही होते है. आपको जितना जो चाहिए था सब कुछ दे तो दिया गया है अब रिफंड तो हम इसका नही दे सकते है. इस पर कस्टमर और भी ज्यादा नाराज हो गया और वो कहने लगा किसने कह दिया कि इसमें सिर्फ 12 ही होते है? मेने तो ये पहली बार सुना है. मुझे 20 की जरूरत थी मेने इसे कुछ और समझा और आप लोगो ने कुछ और समझा है मुझे मेरा पैसा चाहिए.

Advertisement

जब ये मामला सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो फिर लोगो ने इस पर हंसी बरसानी शुरू कर दी क्योंकि किसी को भी ये उम्मीद नही होती है कि कोई भी ग्राहक अच्छे से आर्डर करने के बाद में इस तरह की चीजे करता है. खैर जो भी है अभी के लिए तो जो भी है हमारे सामने आ ही चुका है और हम देख भी रहे है.

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

धर्म

भगवद गीता का हिन्दू धर्म में बहुत ही अधिक महत्त्व माना गया है और लोग इसे अधिक पूजनीय भी मानते रहे है इस बात...