Categories: न्यूज़

मछुआरे के जाल में फंसी 7 फीट लंबी 78 किलो वजनी मछली, 36 लाख रुपए में मछली बेची गई

पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले के सुंदरवन इलाके के तट पर कुछ मछुआरे मछली पकड़ने के लिए अपने दैनिक दिनचर्या के अनुसार निकले। इसी दौरान बिकाश बर्मन नाम के एक मछुआरे के जाल में बहुत बड़ी मछली फस गई। यह मछली 7 फीट लंबी और लगभग 78 किलो वजनी थी। इस मछली को बाहर निकालने के लिए बिकाश बर्मन को पांच और मछुआरों का सहारा लेना पड़ा और मछली को खींचकर बाहर निकालना पड़ा।

जानकारी के अनुसार इस मछली का नाम तेलिया भोला मछली है। यह मछली इंसानों की हाइट से भी अधिक बड़ी होती है। इस मछली का रंग हल्का सा गोल्डन कलर का होता है। बताया जाता है कि इस मछली में औषधीय गुण होते हैं जिसके कारण विदेशी बाजारों में इस मछली की भारी मांग है। इतनी बड़ी मछली दवाइयां बनाने वाली कंपनी लाखों रुपए में खरीद लेती है।

बिकाश बर्मन नाम के उस मछुआरे ने मछली को बाहर निकाला और थोक बाजार में ले जाकर कोलकाता की एक कंपनी केएमपी को बेच दिया। कोलकाता की उस कंपनी ने मछली के बदले में मछुआरे विकास बर्मन को 36 लाख रुपए चुकाए। कंपनी ने बिकाश बर्मन को मछली के 1 किलो के पीछे 47880 दिए। एक मछली बेच कर इतनी बड़ी रकम प्राप्त करके बिकाश बर्मन की तो मानो दिवाली आ गई।

विकास बर्मन ने बताया कि वह कई सालों से समुद्र में मछली पकड़ने का काम करते आ रहे हैं। वह हमेशा ही सोचते थे कि किसी ना किसी दिन उनके जाल में तेलिया भोला मछली पकड़ी जाए परंतु उनका सपना अब जाकर साकार हुआ। बता दें कि यह तेलिया भोला मछली सामान्य तौर पर गहरे समुद्र में ही पाई जाती है परंतु प्रजनन के दिनों में यह मछली तटवर्ती इलाकों में आ जाती है।

Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.