Categories: न्यूज़

5 वर्ष की मासूम बच्ची से जज ने पूछा किसके साथ रहना चाहोगी, बच्ची ने इशारा करते हुए दिया जवाब

Advertisement

बीते मंगलवार को राजस्थान के हाईकोर्ट ने बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई की जिसके बाद निर्णय सुनाया गया। जानकारी के अनुसार यह निर्णय 5 वर्ष की छोटी बच्ची के इशारा किए जाने पर सुनाया गया। यह बच्ची इस केस में प्रमुख गवाह थी जिसके कारण उसे भी याचिका की सुनवाई करते समय कोर्ट रूम में पेश किया गया था। हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने बच्ची से गवाही लेते हुए पूछा और उसी आधार पर अपना निर्णय सुनाया।

जानकारी के अनुसार 27 जनवरी 2020 के दिन 5 वर्ष की मासूम लावण्या की मां सुनीता कंवर की हत्या कर दी गई थी। हत्या के समय लावण्या अपनी मां के साथ की थी और लावण्या का कहना था कि उसकी मां की हत्या उसके पिता परविंदर सिंह ने की जिसके कारण बच्ची को इस केस में प्रमुख गवाह बनाया गया। लावण्या के माता-पिता हरियाणा के भिवानी के रहने वाले हैं। मां की हत्या हो जाने के बाद भिवानी के बाल अधिकार समिति ने बच्चे की कस्टडी उसके पिता और दादा दादी को दे दी थी जिसके बाद बच्ची के नाना मोहन सिंह ने बच्चे की कस्टडी के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी।

Advertisement

बच्ची के नाना मोहन सिंह राजस्थान के रहने वाले हैं और उन्होंने बच्चे की कस्टडी के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी। मोहन सिंह का कहना था कि लावण्या की जान को भी खतरा हो सकता है इसलिए उसे उसके दादा-दादी के पास ना रखते हुए उसकी मां उसी के पास दे दिया जाए। कोर्ट में सुनवाई के दौरान बच्ची के पिता दादा दादी नाना और मौसी भी उपस्थित थे। जैसे ही न्यायाधीश ने बच्ची को पूछा कि वह किसके साथ रहना चाहती है तो बच्ची ने अपनी मौसी सुमित्रा राठौड़ की ओर इशारा किया। इसके बाद न्यायाधीश ने बच्चे की कस्टडी उसकी मौसी को सौंप देने के आदेश दिए।

Advertisement

बच्चे की कस्टडी मिलते ही बच्ची की मौसी सुमित्रा राठौड़ बच्ची को अपने गले से लगा कर रोने लगी। मंगलवार को कोर्ट में सुनवाई के दौरान मोहन सिंह की ओर से रखे गए अधिवक्ता दीपेश बेनीवाल ने बच्ची के 164 के बयान दर्ज करवाए और इसके साथ ही 26 जनवरी 2020 के दिन हुई मृतक के पति परविंदर सिंह और मृतक की बहन सुमित्रा राठौड़ के बीच टेलीफोन वार्ता को भी इस सुनवाई में मुख्य सबूत माना गया जिसके आधार पर कोर्ट ने यह निर्णय सुनाया।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.