Categories: न्यूज़

बुजुर्ग महिला ने अपनी सारी संपत्ति रिक्शा चालक के नाम कर दी, करीब 1 करोड़ की है संपत्ति

Advertisement

यदि हम किसी भी व्यक्ति की निस्वार्थ रूप से सेवा करते हैं तो किसी ना किसी दिन उसे सेवा का फल हमें निश्चित रूप से प्राप्त होकर ही रहता है। इस बात का एक जीता जागता उदाहरण ओड़िशा से सामने आया है। एक ऑटो रिक्शा चालक बीते 25 वर्षों से एक बुजुर्ग महिला की सेवा कर रहे थे। उस सेवा के बदले में बुजुर्ग महिला ने अपनी करोड़ों की संपत्ति ऑटो रिक्शा चालक के नाम कर दी। यह घटना सुनने के बाद हर कोई ऑटो रिक्शा चालक की तो सराहना कर ही रहा है साथ ही साथ उस बुजुर्ग महिला की भी काफी प्रशंसा कर रहा है।

Advertisement

बुजुर्ग महिला की दास्तान

जानकारी के अनुसार उड़ीसा के सूताहाट में रहने वाली मीनाती पटनायक 63 वर्ष की बुजुर्ग महिला है। वे अपने पति और बेटी के साथ रहती थी। परंतु मीनाती पटनायक के पति कि पिछले वर्ष की किडनी खराब होने के कारण मृत्यु हो गई और जिसके कुछ दिन बाद ही उनकी बेटी की भी खुदाई विकार के चलते मृत्यु हो गई। इन दोनों ही घटनाओं से मिनाती पटनायक को काफी बड़ा सदमा लगा था। वह पूर्ण रुप से टूट चुकी थी और अब अकेली पड़ गई थी। ऐसे में बीते 25 वर्षों से उनके परिवार से जुड़े हुए ऑटो रिक्शा चालक बुद्ध सामल उनके काम आए।

Advertisement

रिक्शा चालक दशकों से कर रहे बुजुर्ग महिला की सेवा

बुद्ध सामल और उनका परिवार दशकों से मीनाती पटनायक और उनके परिवार की सहायता कर रहा है। बुद्ध सामल ऑटो रिक्शा चलाते हैं और वे मीनाती पटनायक की बेटी को स्कूल लाने ले जाने का काम किया करते थे। इतना ही नहीं बुध सामल मीनाती पटनायक के घर के छोटे बड़े काम भी कर दिया करते थे। इतना करीब रिश्ता होने के कारण मीनाती पटनायक को बुद्ध सामल और उनके परिवार पर काफी अधिक विश्वास हो गया था। पति और बेटी के चले जाने के बाद जब मीनाती पटनायक पूर्ण रूप से अकेली महसूस कर रही थी तभी बुद्ध सामल के परिवार में उन्हें अपने परिवार के जैसा प्यार दिया।

Advertisement

मीनाती पटनायक ने बताया कि वह बुद्ध सामल को बीते कई दशकों से जानती है और वह बुद्ध सामल और उनके परिवार पर काफी अधिक विश्वास करती है। इसलिए उन्होंने अपनी लगभग 1 करोड़ की संपत्ति और अपनी प्रॉपर्टी बुद्ध सामल के नाम करने का निश्चय किया। इस फैसले को लेकर मीनाती पटनायक की दो बहनों ने उनका विरोध भी किया परंतु मीनाती पटनायक ने किसी की नहीं सुनी और अपनी पूरी संपत्ति बुद्ध सामल के नाम कर दी। बुद्ध सामल में भी कभी सोचा नहीं था कि उनकी निस्वार्थ सेवा के बदले में उन्हें इतना बड़ा इनाम मिलेगा।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.