Categories: न्यूज़

देर रात 1 बजे प्रधानमंत्री मोदी ने लिया बनारस स्टेशन का जायजा, सीएम योगी भी थे साथ

13 दिसंबर के दिन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करने के लिए बनारस पहुंचे हुए थे। इस दौरान पूरे काशी के लोग जोश और उल्लास के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए दिखाई दिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी काफी गर्मजोशी भरा भाषण देते हुए काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन किया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शाम के समय गंगा आरती में शिरकत की। और रात में लगभग 1:00 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बनारस की गलियों में पैदल ही विकास कार्यों का जायजा लेने निकल पड़े।

13 दिसंबर की सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंगा में स्नान करने के पश्चात बाबा विश्वनाथ की पूजा अर्चना करने के लिए पहुंचे। बाबा विश्वनाथ की पूजा करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने साधु संतों और काशी के लोगों को संबोधित किया। इसके बाद दोपहर में उन्होंने काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को बनाने वाले मजदूरों के साथ समय बिताया और उनके साथ भोजन किया। शाम के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंगा आरती में पहुंचे।

इस समय उनके साथ 11 बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी मौजूद रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। लेकिन रात को बिना किसी को खबर किए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केवल अपने सुरक्षाकर्मियों के साथ बनारस की गलियों में विकास कार्यों का जायजा लेने के लिए पैदल ही निकल पड़े। हालांकि कुछ लोगों को इस बात की खबर लग गई थी कि प्रधानमंत्री मोदी बनारस की गलियों में पैदल ही घूम रहे हैं। उनके साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की थी।

इस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिर एक बार काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का जायजा लिया। इसके बाद वे बनारस की गलियों से होते हुए बनारस रेलवे स्टेशन पर पहुंच गए। प्रधानमंत्री अपनी इन गतिविधियों की जानकारी ट्विटर के माध्यम से ट्वीट करते हुए दे रहे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात को ट्वीट करते हुए कहा कि “अगला पड़ाव… बनारस स्टेशन।हम रेल कनेक्टिविटी बढ़ाने के साथ स्वच्छ, आधुनिक और यात्री अनुकूल रेलवे स्टेशनों की दिशा में काम रहे हैं।” इसी प्रकार विकास कार्यों का जायजा लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वापस लौट गए।

Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.