Connect with us

Hi, what are you looking for?

न्यूज़

अपने ही बच्चों और पत्नी की हत्या करने के बाद शव बेसमेंट में गाड़ा, खुदाई करने पर मिली हड्डियां

मौत और हत्याओं की सनसनीखेज वारदात अक्सर खबरों में बनी रहती है। हत्या करने के बाद आरोपी अपने आप को बचाने के लिए नए-नए प्रकार के हथकंडे और तरीके भी आजमाते हैं। कई टीवी सीरियल जैसे क्राइम पेट्रोल के माध्यम से हत्या करने के लिए आजमाएं गए अनोखे तरीके भी दिखाए जाते हैं जिन्हें देखकर हम आश्चर्यचकित हो जाते हैं। ऐसी ही एक हत्या की वारदात जो साल 2018 में हुई थी उसका भांडा फूट गया है और 3 साल बाद आरोपी पकड़ा गया है।

अमर उजाला के खबर के अनुसार साल 2018 में ग्रेटर नोएडा में रह रहे राकेश नाम के एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी रत्नेश और अपने दो बच्चों अर्पित और अवनी की हत्या करके उनका शव में फ्लैट के बेसमेंट में गड्ढा खोदकर गाड़ दिया था। इतना ही नहीं राकेश ने एक और व्यक्ति की हत्या करके उसका शव कासगंज मथुरा रेलवे लाइन पर फेंक दिया था। जिससे उस शव को बरामद करने पर पुलिस को लगे जैसे राकेश ने आत्महत्या कर ली हो। कासगंज की रेलवे लाइन पर मिले उस शव की शिनाख्त राकेश के रूप में ही कर ली गई थी। परंतु 3 साल बाद अब जाकर इस पूरे मामले का भांडा फूट गया है और मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Advertisement

राकेश नाम का यह व्यक्ति मूल रूप से अलीगढ़ के नौगांवा गंगीरी का रहने वाला है। परंतु वह पर शक कोतवाली क्षेत्र के पंच विहार कॉलोनी में अपनी पत्नी और बच्चों के साथ रहता था। जानकारी के मुताबिक 14 फरवरी 2018 के दिन राकेश ने अपनी पत्नी और दोनों बच्चों की हत्या कर दी थी। दरअसल हत्या करने के पीछे राकेश का प्रेम प्रसंग बताया जाता है। राकेश एक महिला सिपाही से प्रेम करता था जिसके कारण ही उसने अपनी पत्नी और बच्चे की हत्या कर दी।

Advertisement

वारदात के घटने के बाद राकेश के ससुर मोतीलाल ने बरसत कोतवाली में तुरंत शिकायत दर्ज करवाई थी। इसी बीच 25 अप्रैल 2018 को कासगंज मथुरा की रेल लाइन पर एक शव बरामद किया गया जिसके सिर और दोनों हाथ कटे हुए थे। शव के जेब में से राकेश के नाम की एक रसीद मिली थी जिसके आधार पर मान लिया गया था कि वर्षा और राकेश का ही है। बता दे कि राकेश अपनी पत्नी और बच्चों को ढूंढने के लिए अपने नोगवा निवासी राजेंद्र के साथ निकला था। शव बरामद होने के बाद राकेश और राजेंद्र दोनों के परिजनों ने इसे अपना अपना बताया। हालांकि शव के जेब में से निकली रसीद के आधार पर उस शव को राकेश का शव मान लिया गया था।

हालांकि वह चौथा शब्द किसका था इस बात की कोई भी आधिकारिक जानकारी नहीं है। बरसक कोतवाली कि पुलिस ने पंच विहार कॉलोनी राकेश के निवास स्थान पर पहुंचकर जब खुदाई की तो उसमें से राकेश की पत्नी और बच्चों की हड्डियां मिली जिन्हें फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है। दरअसल राकेश एक महिला पुलिसकर्मी के प्रेम में था इसीलिए उसने इतना बड़ा कदम उठाया।

Advertisement

फोटो: अमर उजाला 

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

धर्म

हर कोई व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कोई न कोई कार्य करता रहता है. हर कोई अपने जीवन में कुछ हासिल कर लेना चाहता...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...