Connect with us

Hi, what are you looking for?

न्यूज़

150 भारतीयों को अफगानिस्तान से लेकर आये रविकांत गौतम, 56 घंटे न कुछ खाया और न ही सोए

अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकियों के खौफ के बीच से 150 भारतीयों को सुरक्षित निकालकर भारत वापस लाना एक बड़ी चुनौती था। परंतु भारत के आईटीबीपी के जवानों ने इस चुनौतीपूर्ण काम को बहुत ही सटीकता के साथ अपने अंजाम तक पहुंचाया और 150 भारतीयों को अफगानिस्तान के तालिबानियों के आतंक के बीच से सुरक्षित भारत में उनके घर वापसी करवाई। अफगानिस्तान से भारत वापस आने की पूरी यात्रा के दौरान हुए संघर्ष की दास्तान आइटीबीपी के कमांडेंट शिवपुरी के रविकांत गौतम ने विस्तार से बताइ है।

भास्कर डॉट कॉम के मुताबिल रविकांत गौतम ने बताया कि अफगानिस्तान के काबुल में भारतीय दूतावास से एयरपोर्ट का फासला करीब 15 किलोमीटर है। काबुल में फंसे हुए भारतीयों को भारतीय दूतावास से एयरपोर्ट तक पहुंचाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। भारतीय लोगों के 150 के जत्थे को दो दलों में विभाजित करके दूतावास से एयरपोर्ट तक लाना पड़ा। पहले दल में 46 लोग थे जिन्हें तो बहुत आसानी से काबुल के भारतीय दूतावास से एयरपोर्ट तक पहुंचा दिया गया। परंतु दूसरे जत्थे में रमाकांत गौतम सहित एक राजदूत 99 कमांडो तीन महिलाएं और भारतीय दूतावास का पूरा स्टाफ सम्मिलित था। परंतु दूसरे जत्थे को भारतीय दूतावास से काबुल एयरपोर्ट तक पहुंचाने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

Advertisement

(सांकेतिक तस्वीर)

रमाकांत गौतम ने बताया कि वे लोग भारतीय दूतावास के बाहर 15 अगस्त की सुबह ध्वजारोहण समारोह में उपस्थित थे तभी अचानक बमबारी की आवाज आना शुरू हो गई पूर्णविराम वे समझ गए कि तालिबानी आतंकियों ने हमला करना शुरू कर दिया है और वह थोड़ी ही देर में काबुल तक पहुंच जाएंगे। जल्द से जल्द उन्होंने काबुल एयरपोर्ट तक पहुंचने की योजना बनाई।

Advertisement

पहले 46 लोगों के एक ग्रुप को एयरपोर्ट तक सकुशल पहुंचा दिया गया और दूसरे जत्थे में जो भारतीय थे उनको लेकर 15 अगस्त की शाम को वह एयरपोर्ट पर निकले परंतु बीच में ही चेकप्वाइंट पर उन्होंने देखा कि हथियारबंद आतंकी हवा में फायरिंग कर रहे हैं। उसी समय रमाकांत गौतम की टीम ने सोचा कि उनसे हाथापाई करना उचित नहीं होगा और वह वापस भारतीय दूतावास पर लौट गए। फिर 16 अगस्त की सुबह से लेकर शाम तक करीब 4 बार उन्होंने दूतावास से एयरपोर्ट पहुंचने की कोशिश की परंतु पर विफल रहे। आखिरकार रात 10:00 बजे किसी भी तरह से वे भारतीय दूतावास से निकले और आतंकवादियों को चकमा देते हुए रात करीब 3:30 बजे काबुल एयरपोर्ट पहुंच गए।

काबुल एयरपोर्ट पर भारतीय सेना का c-17 जहाज सभी 150 भारतीयों को भारत लाने के लिए तैयार था। भारतीय सेना के जहाज c-17 में सुबह 5:30 बजे काबुल एयरपोर्ट से भारत रवाना होने के लिए उड़ान भरी और करीब 11:30 बजे c-17 गुजरात के एयरपोर्ट पर लैंड हुआ। जिसके बाद सभी भारतीयों ने चैन की सांस ली। अफगानिस्तान से आए उन 150 भारतीयों ने बताया कि गुजरात में उनका भव्य दिव्य स्वागत किया गया। भारत माता की जय के नारों से पूरा एयरपोर्ट गूंज उठा। रविकांत गौतम ने बताया कि 15 अगस्त से लेकर गुजरात पहुंचने तक कुल 56 घंटे कि इस मशक्कत के दौरान ना ही उनमें से कोई सोया था और ना ही उन्होंने भोजन ग्रहण किया। भारत पहुंचने पर उन सभी भारतीयों को बहुत ही सुकून का अनुभव हो रहा है।

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

धर्म

हर कोई व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कोई न कोई कार्य करता रहता है. हर कोई अपने जीवन में कुछ हासिल कर लेना चाहता...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...