Connect with us

Hi, what are you looking for?

न्यूज़

रोजाना बाढ़ के पानी में नाव चला कर स्कूल जाती है संध्या, ऑनलाइन क्लास के लिए नहीं है स्मार्ट फ़ोन

जिन विद्यार्थियों में पढ़ने की ज़िद होती है वह विद्यार्थी अपने सामने आने वाली हर मुसीबत को पार करके अपने सपनों को पूरा करने के लिए आगे बढ़ जाते हैं। पढ़ने की इसी विद के चलते उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की एक बेटी बाढ़ जैसी बड़ी तबाही में भी नाव चला कर रोजाना स्कूल में पढ़ने के लिए जाती है।

Advertisement

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में बहरामपुर दक्षिण इलाके में रहने वाली संध्या निषाद 11वीं कक्षा की छात्रा है। संध्या निषाद जिस इलाके में रहती है वह इलाका पूर्ण रूप से बाढ़ ग्रसित हो चुका है। आवाजाही के सारे सार्वजनिक वाहन और रास्तों पर बाढ़ का पानी भर जाने से पूरा यातायात ठप्प पड़ चुका है। इसी बीच संध्या को स्कूल से सूचना मिली कि उनकी कक्षा आरंभ हो चुकी है। संध्या किसी भी कीमत पर अपनी पढ़ाई गंवाना नहीं चाहती थी। इसीलिए उन्होंने स्कूल तक पहुंचने का एक नायाब तरीका ढूंढ निकाला। जब ऑनलाइन पढ़ाई चालु थी तो संध्या उसमे नहीं हिस्सा ले पाती थी क्योंकि उनके पास स्मार्टफोन नहीं है। तो जब से वापस स्कूल चालू हुए वो हर रोज़ स्कूल जाने लगी। 

संध्या ने करीब 6 साल पहले नाव चलाना सिखा था। 6 साल पहले सीखी हुई अपनी नाव चलाने की कला का सही उपयोग इस समय किया जा सकता है ऐसा संध्या ने विचार किया और संध्या रोजाना स्वयं ही नाव चला कर स्कूल जाने लगी। संध्या की स्कूल घर से करीब 250 मीटर दूर है। नाव से यह अंतर तय करने में संध्या को करीब 20 मिनट का समय लगता है। संध्या पढ़ लिखकर रेलवे में नौकरी करना चाहती है और सरकारी नौकरी प्राप्त करना ही संध्या का आगामी लक्ष्य है।

Advertisement

Advertisement

संध्या के पिता दिलीप निषाद का कहना है कि उनकी बेटी पढ़ने में बहुत होशियार है। दिलीप निषाद के तीन बेटे और इकलौती बेटी है। पढ़ने के लिए संध्या की जिद और संघर्ष को देखकर हर कोई संध्या की प्रशंसा और सराहना करता रहता है। गांव में बाढ़ का पानी इस कदर भर चुका है कि पहली मंजिल तक पानी में डूब चुकी है। इसलिए संध्या का परिवार छत के ऊपर ही खाना पकाता है और छत के ऊपर ही रहता है। संध्या के जोश और जज्बे के आगे बाढ़ का पानी भी घुटने टेकने पर मजबूर हो गया। संध्या जैसी बेटियां पूरे देश के उन विद्यार्थियों के लिए एक मिसाल है जो सारी सुख सुविधाएं होने के बावजूद भी पढ़ने लिखने से कतराते हैं।

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

धर्म

हर कोई व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कोई न कोई कार्य करता रहता है. हर कोई अपने जीवन में कुछ हासिल कर लेना चाहता...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...