Categories: न्यूज़

प्लेटफार्म पर बेहोश होकर गिरी महिला, 2 साल की बच्ची के वजह से बच गई मां की जान

Advertisement

बच्चों के प्रति मां की ममता के उदाहरण तो हमने अनेकों बार देखे ही होंगे परंतु हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे देखकर एक बच्चे के मन में उसकी मां के प्रति इतनी आत्मीयता और प्रेम होगा यह पता चलता है। दरअसल एक अनजान महिला रेलवे स्टेशन पर बेहोश पड़ी थी और उसके साथ दो बच्चे थे। अपनी मां को बेहोश देखकर बच्ची काफी रोने लगती है और तुरंत मदद के लिए वहां पर खड़े हुए आरपीएफ के जवानों को बुला कर ले आती है।

यह घटना जुलाई महीने की बताई जा रही है। मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर एक गरीब महिला अपने 2 साल की एक बेटी और 6 महीने के एक बेटे के साथ बैठी थी। इसी दौरान उस महिला की तबीयत अस्वस्थ होने के चलते वह तुरंत बेहोश हो गई। अपनी मां को बेहोश देखकर 2 साल की बच्ची काफी रोने लगी और मां को उठाने की कोशिश करने लगी।

Advertisement

मां को नींद से जगाने के लिए अथक कोशिश करने के बावजूद भी जब मा नींद से नहीं जागी तो बच्ची की नजर पास में ही खड़े आरपीएफ के महिला कॉन्स्टेबल पर पड़ी। बच्ची तुरंत आरपीएफ की महिला कांस्टेबल की तरफ दौड़ी और महिला कॉन्स्टेबल की उंगली पकड़कर खींचने लगी। पहले आरपीएफ के जवानों को समझ नहीं आया कि बच्ची क्या कहना चाहती हैं। परंतु जब यह बच्ची के साथ पीछे पीछे चल पड़े तब उन्होंने देखा कि उसकी मां बेहोश पड़ी है।

Advertisement

महिला कांस्टेबल ने तुरंत परिस्थिति को समझा और बेहोश पड़ी उस महिला को उठाने की कोशिश करने लगी। उस बेहोश पड़ी महिला के चेहरे पर पानी के छींटे मारे गए परंतु फिर भी वह नींद से नहीं जागी। इस दौरान महिला कॉन्स्टेबल ने तुरंत जीआरपी को इस घटना की सूचना दी। जीआरपी के कर्मचारियों ने तुरंत एंबुलेंस बुलाकर उस महिला को अस्पताल में शिफ्ट करवा दिया। जीआरपी के मुताबिक उस महिला की पहचान नहीं की गई है।

Advertisement

जब तक महिला अस्पताल में पूर्ण रूप से स्वस्थ नहीं हो जाती तब तक उस महिला के दोनों बच्चों को चाइल्ड प्रोटेक्शन टीम के हवाले देखरेख में रखा जाएगा। फिलहाल महिला के दोनों ही बच्चों की देखरेख जीआरपी के कर्मचारियों द्वारा ही की जा रही है। इस खबर के वायरल होती ही सभी लोग उस बच्ची की सूजबुझ की प्रशंसा कर रहे हैं।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.