Categories: न्यूज़

नम आंखों से ब्रिगेडियर लिड्डर को अंतिम विदाई दी पत्नी और बेटी ने, सबकी आँखें हुई नाम

Advertisement

दोस्तों भारतीय सेना के जवान दिन-रात बिना अपने परिवार की चिंता किए पूरे देश को भी अपना परिवार मानकर देश के लोगों की सेवा करते रहते हैं। देश की सुरक्षा करते समय भारतीय सेना के जवान खुद की जान की भी चिंता नहीं करते। क्योंकि उन जवानों के लिए देश ही सर्वोपरि होता है और देश के लिए ही वे अपना सर्वस्व न्योछावर करने के लिए तत्पर रहते हैं। देश पर अपनी जान न्योछावर करने का सबसे बड़ा उदाहरण बीते बुधवार को पूरे देश ने देखा जब तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलीकॉप्टर हादसा हुआ।

Advertisement

इस हादसे ने देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका समेत 13 सैन्य अधिकारी शहीद हो गए। शहीद हुए इन सभी जवानों में से एक ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लीड्डर भी थे। ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लीड्डर जनरल बिपिन रावत के सुरक्षा सलाहकार थे। ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लीड्डर को शुक्रवार के दिन दिल्ली में मुखाग्नि दी गई और उनका अंतिम संस्कार किया गया।

Advertisement

ब्रिगेडियर लीडर की पत्नी ने कहीं यह बात

ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लीड्डर की अंतिम विदाई के बाद उनकी पत्नी ने मीडिया से बातचीत करते हुए बहुत ही भावुक कर देने वाली बातें करें परंतु हंसते-हंसते। ब्रिगेडियर लीड्डर की पत्नी ने कहा कि हमें उन्हें हंसते-हंसते विदाई देनी चाहिए। जिंदगी बहुत लंबी है लेकिन भगवान को अगर यही मंजूर है तो अब इसी के साथ जीना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि ब्रिगेडियर लीड्डर की बेटी उन्हें बहुत याद किया करेगी। वह एक बहुत अच्छे आदमी थे और हम उनसे बहुत प्यार करते हैं।

Advertisement

ब्रिगेडियर की 17 वर्ष की बेटी ने कही यह बात

Advertisement

वही ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लीड्डर की बेटी आशना लीड्डर ने भी अपने पिता को नम आंखों से विदाई देते हुए मीडिया से बातचीत की। बता दें कि आशना लीड्डर केवल 17 वर्ष की है। उन्होंने कहा कि मेरे पिता के साथ बिताए मेरे 17 वर्ष काफी खुशी से बीते। वह मेरे हीरो थे और मेरे अच्छे दोस्त से। मैं अब उनकी यादों को लेकर आगे बनूंगी। उनका जाना राष्ट्र के लिए बहुत बड़ा नुकसान है। ब्रिगेडियर लखबीर सिंह लिड्डर को ना केवल उनके परिवार ने बल्कि पूरे देश ने नम आंखों से विदाई दी और उनके लिए श्रद्धांजलि व्यक्त की।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.