400 कमरे 3500 किलो के झूमर और चांदी की ट्रेन, इतना आलीशान है ज्योतिरादित्य सिंधिया का महल

हम ज्योतिरादित्य सिंधिया को तो जानते ही है जो आज के वक्त में देश के बहुत ही बड़े और जाने माने अमीर राजनेताओं में शुमार किये जाते है. कही न कही उनके बारे में आपको अच्छे से मालूम ही हर होगा लेकिन अगर हम लोग सही मायने में बात करते है तो उनकी सम्पति किसी व्यक्ति की सोच से भी ज्यादा है और उनके महल की बात करे जो कि उनको विरासत में मिला हुआ है वो तो अपने आप में बहुत ही ज्यादा बढ़िया और शानदार है इस बात में कोई भी शक नही है.

ग्वालियर में स्थित है जयविलास पैलेस, अन्दर मौजूद 400 से अधिक कमरे
ज्योतिरादित्य सिंधिया का ये जो महल है ये ग्वालियर शहर में स्थित है क्योंकि इनके पुरखो का राज यही पर ही होता था. ये महल दूर से ही दिखने में बहुत अधिक विशाल और भव्य नजर आता है. कही न कही ये बात जानते तो हम लोग भी है और अधिकतर लोग इस बारे में अपनी अपनी राय देते हुए नजर आ जाते है. इस महल के अन्दर पूरे 400 कमरे है जिनमे से 40 कमरों को म्यूजियम बनाया गया है जो दिखने में और भी ज्यादा शानदार है.

Advertisement

3500 किलो के झूमर, बेल्जियम के कारीगर
इस महल के अन्दर एक ख़ास और सबसे शानदार बात है इसके अन्दर लगे हुए झूमर जो कई क्विंटल के है और इनको बनाने के लिए जो कारीगर है वो भी बहुत दूर बेल्जियम से बुलाये गये थे. इन्होने बहुत ही अच्छे और शानदार तरीके से इसे तैयार किया और देखने वाले तो एक बार के लिए बस देखते ही रह गये थे. आज भी इनकी चमक इतने वक्त बाद ऐसी ही ऐसी बनी हुई है.

Advertisement

डायनिंग हॉल में लगी हुई है चांदी की बनी ट्रेन
अगर हम बात करे भोजन की तो यहाँ पर खाना खाने का अंदाज भी पूरा शाही ही होता है. खाने के लिए यहाँ पर टेबल पर ट्रेन है जो खाना सर्व करती है और ये ट्रेन जो है वो बहुत ही ज्यादा ख़ास है और लोगो के लिए रईस तरीके से खाना लेने को लेकर के एहसास करवाती है जो अपने आप में बहुत ही ज्यादा स्पेशल बात है. कही न कही ये हर कोई पसंद भी करता है.

Advertisement

वही इसके अलावा इसकी कीमत कई हजार करोड़ रूपये में आंकी जाती है और इसमें मौजूद जो भी फर्नीचर वगेरह है वो भी काफी राजसी ठाठ बाट से भरा हुआ और अच्छा खासा नजर आता है और ये चीज अपने आप में बहुत ही ज्यादा ख़ास है.

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Yuvraj Solanki

This website uses cookies.