Connect with us

Hi, what are you looking for?

जरा हटके

82 वर्ष के हैं राणाराम बिश्नोई, 60 वर्षों में लगा चुके है 50 हज़ार से ज्यादा पेड़

पर्यावरण को बचाने के लिए प्रयास करने वाले समाजसेवी अक्सर हमें समाज में दिखाई देते हैं। आज संपूर्ण विश्व में ग्लोबल वार्मिंग के चलते पर्यावरण को बचाने की एक बड़ी चुनौती उभर कर सामने आई है जिसके लिए कई वैश्विक स्तर के उपाय और आंदोलन भी किए जा रहे हैं। परंतु क्या आप जानते हैं पर्यावरण को बचाने के लिए मूल रूप से संबंध भारतीय परंपरा ही है। भारत के लोगों ने ही संपूर्ण विश्व को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने का सशक्त संदेश दिया था। आज भी भारत में ही सबसे अधिक पर्यावरण प्रेमी आपको दिखाई देंगे। इसी प्रकार के एक पर्यावरण प्रेमी राणाराम बिश्नोई के बारे में हम इस लेख में बात करने जा रहे हैं।

Advertisement

राणा राम बिश्नोई राजस्थान के जयपुर के रहने वाले हैं। 82 वर्ष के राणा राम बिश्नोई पिछले 60 वर्षों से पेड़ लगाने का काम कर रहे हैं। राणा राम बिश्नोई ना केवल पेड़ लगाते हैं बल्कि लगाए हुए पेड़ों की देखभाल भी करते हैं। जानकारी के मुताबिक राणा राम बिश्नोई ने आज तक 50 हजार से ज़्यादा पेड़ लगाए हैं। राणा राम बिश्नोई के इस पर्यावरण को बचाने के लिए किए जा रहे सराहनीय काम का उल्लेख परवीन कासवान नाम के एक आईएएस अधिकारी ने किया।

लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए राणा राम बिश्नोई एक प्रेरक शक्ति साबित हो सकते हैं। राणा राम बिश्नोई अपने बचपन से ही पेड़ लगाने का काम करते आ रहे हैं। जब वो 22 साल के थे तो उन्होंने यह निर्णय लिया था। राणा राम बिश्नोई 82 वर्ष के बुजुर्ग है। राणा राम बिश्नोई रोज सुबह अपने घर से निकल जाते हैं और जो भी पेड़ उन्होंने लगाए हैं उनको पानी देने का काम करते हैं। राणा राम बिश्नोई रोज 3 किलोमीटर पैदल चलकर जाते हैं और जो पेड़ उन्होंने लगाए हैं उसकी रोज देखभाल करते हैं।

Advertisement

राणा राम बिश्नोई को उनके इलाके के लोग ‘अहहू’ नाम से पुकारते हैं जिसका मतलब होता है ट्री मैन। वर्तमान समय में लोगों को पेड़ बचाने की अहमियत समझ में आए इसके लिए राणा राम बिश्नोई बहुत बड़ी प्रेरणा बनकर उभर सकते हैं। पूरी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग के संकट से गुजर रही है इसलिए पेड़ लगाने को लेकर एक जन आंदोलन चलना चाहिए। पर्यावरण के लिए जन आंदोलनों को हवा देने के लिए राणा राम बिश्नोई जैसे लोगों का ही उदाहरण सामने रखा जाना चाहिए जो 82  वर्ष के आयु में भी पर्यावरण के लिए इतना सराहनीय कार्य कर रहे हैं।

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

धर्म

हर कोई व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कोई न कोई कार्य करता रहता है. हर कोई अपने जीवन में कुछ हासिल कर लेना चाहता...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...