Connect with us

Hi, what are you looking for?

जरा हटके

कौन था मांस मूसा? वह अमीर राजा जिसकी संपत्ति का अंदाज़ा कोई नहीं लगा पाया

दोस्तों वैसे तो दुनिया में कई बड़े अमीर लोग हैं। लेकिन चंद ही ऐसे लोग होते हैं जो दौलत से बड़े होने के साथ-साथ दिल से भी बड़े होते हैं। ऐसा ही एक बादशाह चौदहवीं शताब्दी में होकर गया जिसका नाम था मंसा मूसा। ऐसा कहा जाता है कि उस समय मंसा मूसा दुनिया के सबसे दौलतमंद व्यक्ति थे। उनकी सल्तनत भी काफी दूर तक फैली हुई थी। एक जानकारी के अनुसार मंसा मूसा माली सल्तनत के राजा थे। उन्हें टिंबक्टू का राजा भी कहा जाता है।

Advertisement

मंसा मूसा का साम्राज्य

एक जानकारी के अनुसार मंसा मूसा के बड़े भाई मंसा अबू बकर का राज्य सन 1280 से लेकर सन 1312 तक था। मंसा मूसा के बड़े भाई की मौत के बाद उस सल्तनत की गद्दी पर मंसा मूसा को बिठाया गया। मंसा मूसा का असली नाम मूसा कीटा प्रथम था। उस राजगद्दी पर बैठने वाले व्यक्ति को मंसा नाम से संबोधित किया जाता है इसलिए मूसा किटा प्रथम को मंसा मूसा प्रथम कहा जाने लगा।

Advertisement

जिस समय मंसा मूसा अपना राज्य संभाल रहे थे उस समय दुनिया में सोने की मांग बहुत ज्यादा हुआ करती थी। बताया जाता है कि उस समय दुनिया का आधा सोना अकेले मंसा मूसा के कब्जे में था। इतिहासकारों के द्वारा ऐसा बताया जाता है कि मंसा मूसा के संपत्ति के बारे में अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता। इतनी ज्यादा संपत्ति के मालिक होने के साथ-साथ मंसा मूसा काफी बड़े दरिया दिल आदमी थे।

Advertisement

400 बिलियन डॉलर संपत्ति के मालिक

जानकारी के अनुसार बताया जाता है कि मंसा मूसा लगभग 400 मिलियन डॉलर संपत्ति के मालिक से। हालांकि इस आंकड़े का कोई पुख्ता प्रमाण नहीं है ऐसा कहा जाता है कि वे इससे भी ज्यादा संपत्ति के मालिक थे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मंसा मूसा का साम्राज्य मॉरीटानिया, सेनेगल, गांबिया, गिनिया, बुर्किना फासो, माली, नाइजर, चाड और नाइजीरिया तक दूर दूर तक फैला हुआ था। उस समय इतनी बड़ी सल्तनत के वे अकेले ही राजा थे।

Advertisement

इस यात्रा के दौरान बांट दिया था लोगों में सोना

बताया जाता है कि मंसा मूसा साल 1324 में मक्का मदीना की यात्रा पर निकले थे। उनके पूरे जुलूस में 60000 लोग शामिल थे जिनमें से 12000 सैनिक उनके खुद के थे। उसी कारवां में 80 वोट भी शामिल थे जिनके ऊपर 136 किलो सोना लदा हुआ था। इसके साथ ही उनके भोले के आगे 500 लोग रेशमी लिबास पहने हुए चलते दिखाई दे रहे थे। इस पूरी यात्रा के दौरान मंसा मूसा ने साढे 6 हजार किलोमीटर की दूरी तय की थी।

Advertisement

बताया जाता है कि मंसा मूसा जब अपनी यात्रा के दौरान मिस्र की राजधानी से होकर गुजर रहे थे तब उन्होंने मिस्र की राजधानी काहिरा में गरीब लोगों को काफी सोना बांट दिया जिसके कारण तुरंत उस क्षेत्र में सोने के दाम गिर गए और पूरी अर्थव्यवस्था चकनाचूर हो गई। चारों तरफ महंगाई बढ़ गई और पूरा देश कंगाल हो गया। बताया जाता है कि मंसा मूसा का 57 साल की उम्र में निधन हो गया और उनके बाद उनके बेटे ने राजगद्दी संभाली। हालांकि मंसा मूसा की तरह उनका बेटा उस राजगद्दी को लंबे समय तक टिका नहीं पाया और उसके जाने के बाद वह पूरी सल्तनत टुकड़ों टुकड़ों में विभाजित हो गई और मंसा मूसा का साम्राज्य बर्बाद हो गया।

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

यह भी पढ़ें

धर्म

हर कोई व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कोई न कोई कार्य करता रहता है. हर कोई अपने जीवन में कुछ हासिल कर लेना चाहता...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...