धर्म

5 करोड़ 16 लाख रुपए के नोट से सजाया मंदिर, गुलदस्ते से लेकर फूल तक सभी नोटों से बनाएं

Advertisement

प्रतिवर्ष नवरात्रि देश के विभिन्न कोनों में काफी धूमधाम से मनाई जाती है। इस अवसर पर अनेक मंदिरों को सुशोभित किया जाता है और काफी आकर्षक स्वरूप में इन मंदिरों की सजावट की जाती है। भक्तों का ध्यान आकर्षित करने के लिए मंदिरों में सजावट के विविध स्वरूप भी हमें देखने को मिलते हैं। ऐसे ही आंध्र प्रदेश के एक मंदिर की सजावट काफी अनोखी की गई है। इसे देखने के लिए काफी दूर-दूर से लोग आ रहे हैं।

Advertisement

आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले का वासवी कन्यका परमेश्वरी मंदिर इस वर्ष की नवरात्रि और दशहरे के लिए काफी अनोखे तरीके से सजाया गया है। जानकारी के अनुसार इस मंदिर में इस बार भारतीय करेंसी नोटों से सजावट की गई है। इस मंदिर की पूरी सजावट के लिए करीब 5 करोड़ 16 लाख रुपयों के करेंसी नोटों का उपयोग किया गया है। इतनी अधिक धनराशि का उपयोग करते हुए मंदिर की सजावट किया जाना आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

इस मंदिर में सजावट के लिए गुलदस्ते से लेकर फूल और झालर तक सब कुछ करेंसी नोटों से ही बनाया गया है। सजावट के लिए 10 से लेकर 2000 तक के नोटों का उपयोग किया गया है। इन करेंसी नोटों को इस तरीके से सजाया गया है कि दूर से देखने पर शायद ही कोई पहचान पाएगा कि यह करेंसी नोट है। बता दें कि यह पहला अवसर नहीं है जब मंदिर पर इतने करोड़ों रुपयों का डेकोरेशन किया गया है। इसके पहले भी इस मंदिर को इसी प्रकार से करते हुए सजाया गया है।

Advertisement

नेल्लोर जिला प्राधिकरण के अध्यक्ष और इस मंदिर कमेटी के सदस्य मुक्कला द्वारकाधीश ने बताया कि यह मंदिर करीब 130 वर्ष पुराना है और मंदिर में भक्तों की काफी आस्था है। इस मंदिर को काफी चढ़ावा भी आता है और बताया जा रहा है कि इस बार मंदिर में 7 किलो सोना और 60 किलो चांदी का चढ़ावा भी आया है। बता दें कि बीते 4 वर्षों से इस मंदिर का रिनोवेशन का काम चल रहा था जो अभी पूर्ण हुआ है। रिनोवेशन के इस काम में करीब 11 करोड रुपए खर्च हुए हैं। इस मंदिर में दशहरा एवं नवरात्रि के लिए 100 से अधिक वॉलिंटियर्स दिन रात काम कर रहे हैं।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.