Connect with us

Hi, what are you looking for?

विशेष

लोग कहते थे यह बच्चा दृष्टिहीन है कुछ नहीं कर पाएगा, श्रीकांत ने खड़ी कर दी करोड़ों रुपये की कंपनी

आंध्र प्रदेश के सीतापुर में जन्मे श्रीकांत बोला बचपन से ही दृष्टिहीन है। श्रीकांत बोला एक बहुत ही सामान्य और गरीब परिवार से आते हैं। परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी कमजोर थी कि उनकी पारिवारिक आय प्रतिमाह केवल 1600 रुपए ही थी। एक तो खराब आर्थिक परिस्थिति और ऊपर से परिवार में जन्मा एक जन्मांध बालक। ऐसी विकट परिस्थिति में श्रीकांत का परिवार काफी दुख की घड़ी से गुजर रहा था। श्रीकांत के परिवार के रिश्तेदारों ने उन्हें सलाह दी कि यह बच्चा बड़ा होकर आपके ऊपर बोझ बन जाएगा क्योंकि यह कोई काम भी कर सकेगा और विराम इसीलिए इस बच्चे को मार देना ही उचित है। परंतु श्रीकांत के परिवार ने उन्हें पालने का निर्णय किया और पाल पोस कर बड़ा किया।

श्रीकांत के माता पिता ने उन्हें सामान्य बच्चों की तरह ही परवरिश करने का निर्णय किया और उन्हें गांव की एक स्कूल में दाखिला दिलवा दिया। श्रीकांत स्कूल में अन्य बच्चों की तरह जाती थी। हालांकि स्कूल प्रशासन को श्रीकांत के दृष्टिहीन होने के कारण उनसे ज्यादा उम्मीद नहीं थी परंतु श्रीकांत ने सबकी उम्मीदों पर पानी फेरते हुए सामान्य विद्यार्थियों की तुलना में कोई अधिक अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया। स्कूल में श्रीकांत को आखरी बेंच पर बिठाया जाता था। स्कूल के अंदर बच्चे श्रीकांत का मजाक भी उड़ाते थे परंतु सभी को नजरअंदाज करते हुए श्रीकांत अपनी पढ़ाई करते गए और दसवीं कक्षा में श्रीकांत ने 90% अंक लेकर पास होकर सबको आश्चर्यचकित कर दिया।

Advertisement

दसवीं के बाद श्रीकांत ने 12वीं के लिए साइंस में एडमिशन लेने का निर्णय किया। परंतु जिस स्कूल में साइंस में एडमिशन लेने के लिए पहुंचे उन्होंने दृष्टिहीन होने के कारण श्रीकांत को एडमिशन देने से मना कर दिया। श्रीकांत ने एडमिशन ना देने के कारण स्कूल प्रशासन पर केस कर दिया। करीब 6 महीने केस चलने के बाद आखिरकार स्कूल प्रशासन को श्रीकांत की जिद के आगे झुकना पड़ा और उन्हें अपने यहां एडमिशन देना पड़ा। स्कूल प्रशासन ने यह शर्त रखी कि किसी प्रयोग करने के दौरान यदि श्रीकांत के साथ कोई दुर्घटना होती है तो इसके जिम्मेदार श्रीकांत खुद रहेंगे। स्कूल की सारी शर्तों को मान्य करते हुए श्रीकांत ने एडमिशन लिया और इतना बेहतर प्रदर्शन करके दिखाया कि 12वीं कक्षा में श्रीकांत को 98% अंक प्राप्त हुए।

Advertisement

श्रीकांत पढ़ाई में इतने निपुण हो चुके थे कि 12वीं कक्षा में इतने अच्छे गुण प्राप्त करने के बाद उन्हें अमेरिका के एमआईटी में एडमिशन मिल गया। श्रीकांत बोला अमेरिका की एमआईटी में दाखिला लेने वाले पहले भारतीय नेत्रहीन विद्यार्थी बन चुके थे। एमआईटी से अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद श्रीकांत को अमेरिका की अनेक कॉरपोरेट कंपनियों में जॉब के ऑफर आए परंतु श्रीकांत ने उन सभी जॉब ऑफर को ठुकरा दिया। श्रीकांत चाहते थे उनकी प्रतिभा का सही उपयोग केवल भारत देश के भविष्य को उज्वल बनाने के लिए ही हो पाए। इसलिए श्रीकांत ने एमआईटी से पढ़ाई पूरी करने के बाद भारत का रुख किया।

Advertisement

भारत लौटकर श्रीकांत में साल 2012 में बौलैंट इंडस्ट्री नाम से कंजूमर फूड पैकेजिंग कंपनी की स्थापना की। यह कंपनी पत्तियों से और इस्तेमाल किए गए कागज से इको फ्रेंडली पैकेजिंग बनाती है। साल 2012 से अभी तक जो कंपनी 20% वार्षिक दर से ग्रो कर रही हैं। श्रीकांत के द्वारा स्थापित की गई इस कंपनी ने आंध्र प्रदेश तेलंगाना सहित 7 अन्य जगहों पर अपना यूनिट स्थापित कर दिया है। आज श्रीकांत की इस कंपनी का टर्नओवर प्रतिवर्ष 200 करोड रुपए है। साल 2017 की रिपोर्ट के मुताबिक इस कंपनी की वैल्यू 413 करोड रुपए आंकी गई थी।

श्रीकांत ने अपनी इस कंपनी की स्थापना के बाद कंपनी में कई दिव्यांग लोगों को रोजगार दिया। इस कंपनी में करीब 15000 वर्कर काम करते हैं। श्रीकांत को अपनी इस सफलता के लिए कई माध्यमों ने पुरस्कृत भी किया है। साल 2021 में श्रीकांत को फ़ोर्ब्स ने 30 अंडर 30 एशिया नाम का अवार्ड भी दिया था। यह अवार्ड 30 वर्ष से कम आयु वाले उन युवाओं को दिया जाता है जिन्होंने अपने क्षेत्र में काफी प्रतिभा प्राप्त की है। श्रीकांत उन 3 भारतीयों में शामिल थे जिन्हें फोर्स के द्वारा यह अवार्ड दिया गया था। श्रीकांत ने अपनी मेहनत लगन और काबिलियत से उन सबके नकारात्मक विचारों पर पानी फेर दिया जो श्रीकांत को किसी लायक नहीं समझते थे।

Advertisement
Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

धर्म

हर कोई व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कोई न कोई कार्य करता रहता है. हर कोई अपने जीवन में कुछ हासिल कर लेना चाहता...

मनोरंजन

फिल्म जगत में वैसे तो हीरोज की ही चलती आयी है और ये बात हम लोग काफी ज्यादा अच्छे तरीके से जानते भी है...

मनोरंजन

अभी हाल ही में तांडव वेब सीरीज रिलीज हुई है जिसको लेकर के काफी ज्यादा विवाद हो रहे है. अगर आपको जानकारी न हो...