विशेष

ट्री मैन के नाम से मशहूर पुलिस कर्मी, बैंक से 17 लाख लोन लेकर लगाए 185 गांवों में पेड़

Advertisement

दोस्तों वैसे तो पुलिस की ड्यूटी अपने आप में एक सेवा का कार्य है जो देश के लोगों की सेवा में दिन-रात तत्पर रहती है। परंतु इसके अलावा भी चंडीगढ़ के एक पुलिस कॉन्स्टेबल ऐसे हैं जो पर्यावरण की सुरक्षा में अपने आप को समर्पित करते हैं। चंडीगढ़ के पुलिस कांस्टेबल देवेंद्र सुरा पिछले 10 वर्षों से अपने इलाके के कई सूखे क्षेत्रों में पेड़ लगाने का काम कर रहे हैं और अब तक उन्होंने सैकड़ों पेड़ लगाए हैं और इलाके को हरा-भरा बना दिया है।

Advertisement

इस प्रकार आया पेड़ लगाने का विचार

दरअसल कॉन्स्टेबल देवेंद्र सुरा साल 2011 में चंडीगढ़ में कांस्टेबल के पद पर तैनात हुए थे। मूल रूप से हरियाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले हैं। जब वे चंडीगढ़ में अपनी ड्यूटी ज्वाइन करने पहुंचे तो उन्होंने वहां पर काफी सारी हरियाली देखी और सोचा कि हमारे हरियाणा के गांव में इतनी हरियाली नहीं है और वहीं से उन्होंने यह विचार किया कि क्यों ना अपने गांव को फिर से पेड़ लगाकर हरा-भरा बनाया जाए।

Advertisement

पेड़ लगाने के लिए बैंक से लिए 17 लाख

इसके बाद देवेंद्र सुरा ने सबसे पहले अपने गांव सोनीपत से पेड़ लगाने की शुरुआत की। धीरे-धीरे उनकी यह पहल आगे बढ़ती चली गई और एक गांव से दूसरे गांव में पेड़ लगाते लगाते आगे बढ़ते चले गए। आज लगभग 185 गांवों में देवेंद्र सुरा पेड़ लगा चुके हैं। उनके इस अद्भुत पर्यावरण प्रेम को देखकर उस इलाके के लोग उन्हें ट्रीमैन के नाम से बुलाने लगे हैं। बता दें कि देवेंद्र शूरा ने पैसों की कमी के चलते अलग-अलग बैंकों से 17 लाख रुपए लोन भी लिया ताकि और अधिक पेड़ लगाए जा सके। उन्होंने इस पूरी राशि को पेड़ लगाने में खर्च कर दिया।

Advertisement

सभी को पेड़ लगाने के लिए जागरूक करते हैं देवेंद्र

Advertisement

उनके द्वारा किए जा रहे इस पर्यावरण रक्षण के काम पर जवाब देते हुए देवेंद्र सुरा ने बताया कि “यह अच्छी बात है कि वह पेड़ लगा रहे हैं, लेकिन अगर वह पीपल, अमलतास, बरगद की भारतीय प्रजातियां लगाते हैं, तो इससे हमारे पर्यावरण को ज्यादा फायदा होगा। ये पेड़ ज्यादा ऑक्सीजन छोड़ते हैं। वह खुद भी ऐसे ही पेड़ लगाते हैं।” कॉन्स्टेबल देवेंद्र सुरा अपने साथ काम कर रहे अन्य लोगों को भी पर्यावरण के प्रति जागरूक करते रहते हैं और गांव के लोगों को भी इस काम में हाथ बंटाने के लिए प्रेरित करते रहते हैं।

Advertisement
Facebook Comments
Leave a Comment
Share
Published by
Harsh

This website uses cookies.